मेडिकल स्टोर कैसे खोले | Medical store kaise kholen hindi

Medical store kaise kholen:- मेडिकल स्टोर या फार्मेसी की दुकान एक सदाबहार बिजनेस है, जिसपर किसी संकट का कोई असर नहीं होता है. भारत में हेल्थ सर्विसेज बिजनेस में निरंतर बढ़ोतरी हो रही है, अगर आप चिकित्सा क्षेत्र में रूचि रखते है और पर्याप्त पूंजी के साथ किसी बिजनेस में निवेश करना चाहते है तो आप फार्मेसी स्टोर कैसे शुरू करें, के बारे में यहाँ पढ़ सकते हैं. ये एक अच्छा बिजनेस आईडिया है. Medical store kaise kholen

Medical store kaise kholen

# मेडिकल स्टोर कैसे खोलें?| Medical store kaise kholen.

मेडिकल शॉप या फार्मेसी स्टोर को बड़े और छोटे दोनों स्तर पर शुरू किया जा सकता है. इसके लिए आपको बी. फार्मा. या डी. फार्मा. या एम. फार्मा. से कोई भी एक मेडिकल स्टोर के लिए आवश्यक डिग्री/कोर्स करना होगा. बड़े स्तर पर जो मेडिकल या फार्मा बिजनेस करते हैं वो खुद ये कोर्स ना करके, किसी फार्मासिस्ट को रख लेते हैं. क्योंकि उनके पास पर्याप्त मात्रा में निवेश राशि होती है. ऐसा हम छोटे स्तर पर भी कर सकते हैं लेकिन इससे हमे अतिरिक्त भार पड़ेगा.

मेडिकल स्टोर के लिए लाइसेंस लेने के लिए फार्मेसी कोर्स की आवश्यकता पड़ती है. आज हम इस लेख में मेडिकल स्टोर कैसे खोलें, के बारे में चर्चा करेंगे.

# मेडिकल स्टोर क्या होता है? 

मेडिकल शॉप या फार्मेसी स्टोर वो स्थान या बिजनेस का प्रकार होता है जहाँ स्वास्थ्य से संबंधित विभिन्न प्रोडक्ट और दवाइयां उपलब्ध होती है. फार्मेसी की दुकान एक खुदरा आउटलेट होता है जो रोगियों या कस्टमर्स को चिकित्सक के पर्चे और बिना डॉक्टर पर्ची के मिलने वाली सभी दवाइयां विक्रय करता है. कई मेडिकल स्टोर स्वास्थ्य देखभाल और अन्य समस्याओं के बारे में सलाह भी उपलब्ध करवाते हैं.

# बिना डिग्री के मेडिकल स्टोर कैसे खोलें?

bina degree ke medical store kaise kholen:- आप बिना फार्मेसी कोर्स के मेडिकल स्टोर खोलना चाहते है तो आपको किसी फार्मासिस्ट को नियुक्त करना होगा तथा उसी के नाम पर लाइसेंस लेना होगा.

अगर आप फार्मासिस्ट को नियुक्त नहीं करना चाहते तो आपके पास यह कोर्स होना चाहिए या ये कोर्स करना होगा. फार्मेसी के विभिन्न डिप्लोमा कोर्स, मास्टर डिग्री, डॉक्टरेट डिग्री और बैचलर डिग्री होते हैं:-

# मेडिकल स्टोर खोलने के लिए कौन सी डिग्री चाहिए?

मेडिकल स्टोर के लिए कोर्स

बी. फार्मा. :- ये डिग्री पाठ्यक्रम तीन वर्ष का होता है, तथा इसके साथ ही किसी फार्मा कंपनी से एक महीने का औद्योगिक प्रमाण-पत्र भी लेना होता है. इसे 12वीं कक्षा के बाद किया जा सकता है.

एम. फार्मा. :- ये डिग्री बी. फार्मा के बाद की जाती है. जिसके लिए बी. फार्मा. में न्यूनतम 50% मार्क्स चाहिए होते हैं.

डी. फार्मा. :- ये डिप्लोमा 2 वर्ष में होता है जिसे 12वीं के बाद किया जा सकता है.

फार्मा. डी. :- इसे डी. फार्मा और बी, फार्मा. के बाद किया जा सकता है.

 अपने राज्य की फार्मेसी काउंसिल में रजिस्ट्रेशन कराए

फार्मेसी की डिग्री या कोर्स पूरा करने के बाद आप एक फार्मासिस्ट बन गए लेकिन आपको अपना रजिस्ट्रेशन फार्मेसी काउंसिल में कराना होता है. उसके बाद में आप रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट की श्रेणी में आ जाएंगे. ये प्रक्रिया ऑनलाइन भी की जाती है. आप आवश्यक डाक्यूमेंट्स के साथ इसे पूराकर सकते हैं.

फार्मेसी की दुकान के लिए स्थान का चयन करें

हर बिजनेस का स्थान उसकी सफलता को तय करता है. इसलिए आप मेडिकल स्टोर का स्थान खोजने के लिए उचित स्थान का चयन करें. आप किसी हॉस्पिटल या क्लिनिक के पास अपना स्टोर शॉप खोल सकते हैं. अगर आप चाहे तो किसी अच्छे आबादी क्षेत्र में भी मेडिकल स्टोर बिजनेस शुरू कर सकते हैं. मेडिकल शॉप के लिए दवाइयां खरीदने वाले लोग चाहिए जो क्लिनिक, हॉस्पिटल और आबादी क्षेत्र में मिलते हैं.

लाइसेंस के लिए आवेदन करें |

मेडिकल शॉप के लिए लाइसेंस के प्रकार

मेडिकल स्टोर चाहे बड़ा हो या छोटा, उसके लिए ड्रग लाइसेंस लेना ही पड़ेगा. प्रत्येक फार्मेसी बिजनेस को केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन और राज्य औषधि मानक नियंत्रण संगठन से दवा लाइसेंस प्राप्त करना पड़ता है। ड्रग लाइसेंस क दो प्रकार होते हैं:

1. रिटेल ड्रग लाइसेंस

सामान्य केमिस्ट की दुकान चलाने के लिए इस लाइसेंस की आवश्यकता होती है, जिसके लिए आपको संचालन शुरू करने के लिए न्यूनतम शुल्क जमा करने की आवश्यकता होती है। इसमें ड्रग लाइसेंस केवल उस व्यक्ति को दिया जा सकता है, जिसने किसी विश्वविद्यालय या सूचीबद्ध संस्थान से फार्मेसी में डिग्री या डिप्लोमा किया है। इसप्रकार के लाइसेंस से खुदरा सामान बेचा जाता है.

2. थोक दवा लाइसेंस

यदि आप थोक में दवाओं का बिजनेस करने का प्लान बना रहे हैं, तो आपको यह लाइसेंस लेना होगा। रिटेल ड्रग लाइसेंस से विपरीत, आवेदक को नियमों और विनियमों के एक निर्दिष्ट सेट का पालन करने की आवश्यकता नहीं है। इस लाइसेंस को जारी करने के तहत कुछ प्रतिबंध लगाए जाते हैं, जिनका पालन करना होता है।

 स्थानीय थोक विक्रेता से सम्पर्क करें

आपको खुदरा व्यवसाय करना है तब आपको एक होलसेलर की जरूरत पड़ेगी जो आपको थोक कीमत में मेडिकल स्टोर के लिए सभी दवाइयां और सामान दे सकें. अगर आपका बिजनेस बड़ा है तो आप डायरेक्ट दवा कंपनियों से भी सामान मंगा सकते हैं. आपको हमारी राय है कि शुरुआत में अपने स्थानीय डीलर से ही दवाइयां खरीदे और धीरे-धीरे दुकान Medical Store चलने लगे तो आप सीधे बड़े थोक विक्रेताओं से सम्पर्क कर सकते हैं.

अब आप दवाइयां बेचें और अपने Medical Store Business से मुनाफा कमाएं.

# FAQs for Medical store business

Q.- क्या केमिस्ट शॉप एक लाभदायक व्यवसाय है?

Ans. कोई भी केमिस्ट व्यवसाय या मेडिकल स्टोर अत्यधिक लाभदायक होता है। अधिकांश निर्धारित दवा से संबंधित व्यवसाय बाजार में अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं। यहां तक कि ओटीसी (ओवर-द-काउंटर) दवाएं या पेटेंट दवा की दुकान भी काफी लाभदायक है।

Q.:- मेडिकल स्टोर में आने वाली लागत (Medical Store Costs) –

Ans:- मेडिकल स्टोर एक ऐसा बिजनेस है, जिसे आप कम पैसों से लेकर, ज़्यादा पैसे लगाकर भी शुरू कर सकते हैं। आप अपनी शॉप में जितना अधिक पैसा लगाएंगे दुकान उतनी ही अच्छी चलेगी। वैसे कुछ अनुभवी लोगों के अनुसार एक अच्छा सा मेडिकल स्टोर खोलने के लिए 4 से 5 लाख रुपए की ज़रूरत पड़ती है।

Q.:- मेडिकल स्टोर कितना मुनाफा कमाता है?

Ans.:- किसी भी खुदरा मेडिकल स्टोर का लाभ हर महीने 5% से 30% तक होगा। विभिन्न उत्पादों पर विभिन्न प्रकार के मार्जिन होंगे जैसे-

  •  ओटीसी (ओवर-द-काउंटर) दवाएं
  • ब्रांडेड प्रिस्क्रिप्शन उत्पाद
  • जेनेरिक दवाएं
  • Trapped Products
  • ब्रांड-विशिष्ट छूट वाले आइटम

Q.- मेडिकल स्टोर खोलने के लिए कौन सी डिग्री होनी चाहिए?

Ans.:- भारत में मेडिकल की दुकान खोलने के लिए न्यूनतम आवश्यकता विज्ञान में 12वीं पास करने के बाद फार्मेसी में डिप्लोमा है। फार्मेसी में अपना डिप्लोमा पूरा करने के बाद, आप मेडिकल शॉप के लिए लाइसेंस के लिए आवेदन करने के पात्र हैं।

Q.:- क्या जेनेरिक दवा व्यवसाय लाभदायक है?

Ans.:- कोई भी सामान्य चिकित्सा व्यवसाय सभी उद्यमियों के लिए एक लाभदायक व्यवसाय विकल्प है। यहां तक कि फ्रेंचाइजी भी एक बेहतरीन विकल्प हो सकता है।

Q.:- फार्मेसी में डिप्लोमा कितने साल का होता है?

Ans.:- फार्मेसी में डिप्लोमा 2 साल का पूर्णकालिक पाठ्यक्रम है।

Q.:- मेडिकल शॉप कौन शुरू कर सकता है?

Ans.:- जिस किसी के पास फार्मेसी लाइसेंस है, वह मेडिकल स्टोर खोलने का पात्र है। एक योग्य फार्मासिस्ट बनने के लिए आपको B. Pharm या M. Pharm की डिग्री प्राप्त करने की आवश्यकता है।

Q . – क्या नर्स फार्मेसी खोल सकती है?

Ans:- नहीं। ‘द फार्मेसी एक्ट, 1948’ और ‘द नर्सिंग काउंसिल एक्ट’ के तहत एक नर्स के अनुसार, एक नर्स भारत में फार्मेसी नहीं खोल सकती है। ये नियम ड्रग एंड कॉस्मेटिक्स एक्ट 1940 और 1945 में बने नियमों के तहत भी लागू और अनिवार्य हैं।

Q. – मेडिकल शॉप के लिए कौन सा कोर्स सबसे अच्छा है?

Ans:- यदि आप मेडिकल स्टोर के लिए नए नियमों का पालन करना चाहते हैं या मेडिकल शॉप के लिए अपना लाइसेंस प्राप्त करना चाहते हैं तो बी. फार्म आदर्श कोर्स है। यह एक स्नातक स्तर की डिग्री है जिसे साइंस स्ट्रीम में 12वीं पूरी करने के बाद किया जा सकता है।

Q. – क्या मैं डी फार्मा के बाद मेडिकल स्टोर खोल सकता हूं?

Ans:- डी.फार्मा. के पूरा होने के बाद, आपको अपने राज्य फार्मेसी परिषद में खुद को पंजीकृत करना होगा और आधिकारिक प्रमाणीकरण प्राप्त करना होगा जिसमें पंजीकरण प्रक्रिया के लगभग 45 दिन लगेंगे, और फिर आप एक मेडिकल स्टोर शुरू कर सकते हैं।